मुसलमानों की जाहिलियत की ख़ास वजहें, ILLITERACY AMONGST THE MUSLIMS

मुल्क की आज़ादी के पहले और आज़ादी के बाद भी मुस्लिम समाज में LITERECY RATE and DROPOUT RATE सबसे ज़्यादा है। इसकी ख़ास वजह इस तरह है।
१. ग़रीबी। ग़रीबी की वजह से ज़्यादातर माँ बाप बच्चों न पढ़ा कर उनको छोटे मोटे कामों में लगा देते हैं या उनसे नौकरी करवाने लगते हैं। इससे इनकी तालीम बंद हो जाती है।
२. बच्चों की ज़्यादा संख्या।
३. शुरू से माडर्न एजुकेशन के प्रति ग़लत नज़रिया। यह की यह इस्लाम से दूर कर देगी। इससे ईमान नहीं बच पाएगा। मुसलमानों को नौकरी नहीं मिलेगी।
४. CLERGY यानी मुस्लिम ULEMA MUALANA लोगों की Modern Education के बारे में ग़लत सोच व तबलीग। ये यही लोग हैं जिन्होंने SIR सैय्यद अहमद के ख़िलाफ़ फ़तवा ज़री किए थे और उनके ख़िलाफ़ पाबंदी लगाए थे।
५. नौकरी नहीं मिलेगी। ऐसी सोच। तालीम को नौकरी से जोड़ कर देखा जाता है।
६. मुस्लिम बहुल इलाक़ों में या मुसलामनो के पास दुनियाबी तालीम के SCHOOL COLLEGE का कम होना है।
आज कल की ख़ास वजह ग़रीबी और बच्चों की संख्या का ज़्यादा होना आशिकछा की मुख्य वजह है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *